NEEND SHAYARI IN HINDI | SHAYARI ON NEEND WORD | NEEND SMS,MSG,QUOTES | morepankh.com

Friends pyar aur neend ka aisa relation hai ki yadi jisse pyar hai aur usse kisi din baat na ho to us din aankho main neend nahi aati hai ,aur jis din dher saari pyar bhari baaten ho us din bhi khushi ke karan neend nahi ,neend to tabhi aati hai jab wo apne pass baitha ho , doston aaj hum aise hi shayari on neend,neend par shayari,neend quotes,neend sms,neend msg,

                                                 


                                                                                    



साथ ना रहने से रिश्ते टूटा नहीं करते
वक़्त की धुंध से लम्हे टूटा नहीं करते
लोग कहते हैं कि मेरा सपना टूट गया
टूटी नींद है सपने टूटा नहीं करते


---


नींद भी
आने से इतराती है आज कल,
तुम से
ख्वाबो में मिलना जो है


---


कोई उम्मीद बर नहीं आती, कोई सूरत नज़र नहीं आती
मौत का एक दिन मुअय्यन है, नींद क्यूँ रात भर नहीं आती


---


सो कर
सुकून पा लेते, लेकिन
नींद को हुक्म नही है तुम्हारा


---


तुम्हें नींद नहीं आती तो कोई और वजह होगी
अब हर ऐब के लिए कसूरवार इश्क़ तो नहीं


---


सुकून
तो न जाने कहाँ खो गया है,
अब तो बस नींद के झरोखें आते है


---


नींद से आँख वो मिल कर जागे
कितने सोए हुए मंज़र जागे


---


Yaad Sataaye Kisi Ki Toh Koi Kya Kare
Dil Milne Ko Chahe Kisi Se Toh Koi Kya Kare
Sapno Mein Hoti Hai Mulaqaat, Log Kehte Hain
Par Pyar Mein Neend Hi Na Aaye Toh Koi Kya Kare


---


भरी रहे अभी आँखों में उस के नाम की नींद
वो ख़्वाब है तो यूँ ही देखने से गुज़रेगा


---


आज
दिल कहता है, जल्दी से तुम्हें
एक नज़र देख कर
लौट आऊँ
नींद में मुस्कुराते हो तो बड़ा
प्यार आता है तुम पर


---


बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है


---


ना जगाओ
नींद से उस आशिक़ को
आज कई दिनों बाद सोया लगता है


---


हमें भी नींद आ जाएगी हम भी सो ही जाएँगे
अभी कुछ बे-क़रारी है सितारो तुम तो सो जाओ


---



ऐ नींद,
तू कहाँ खो गई
किस झोपड़ी में
सो गई
दौलत ने बिछाए बिस्तर
तू ज़मीं पर ही
सो गई


---


रात भी नींद भी कहानी भी
हाए क्या चीज़ है जवानी भी


---


कितने आँसू एक साथ आंखों में आ जाते है,
नींद उड़ जाती है
जब भी वो रातो को ख्यालों में
आ जाते है


---


नींद आँखों में मुसलसल नहीं होने देता
वो मिरा ख़्वाब मुकम्मल नहीं होने देता


---


जिस रात वो मेरे सपनो में
आ जाते है,
उस दिन
हम नींद से उठना नहीं चाहते है


---


नींद रातों की उड़ा देते हैं, हम सितारों को दुआ देते हैं
रोज़ अच्छे नहीं लगते आँसू, ख़ास मौक़ों पे मज़ा देते हैं


---


एक मुक़म्मल रात, थोड़ी सी नींद
और सिर्फ तेरी बात


---


किसी सूरत भी नींद आती नहीं मैं कैसे सो जाऊँ
कोई शय दिल को बहलाती नहीं मैं कैसे सो जाऊँ


---


चलो नींद
के दफ्तर में हाज़िरी लगा आते हैं,
वो सपनो में
आये तो ओवर टाइम भी कर लेंगे


---


सितारे ये ख़बर लाए कि अब वो भी परेशाँ हैं
सुना है उन को नींद आती नहीं मैं कैसे सो जाऊँ


---


इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई
हम न सोए रात थक कर सो गई


---


तेरी याद नींदे आने नहीं देती,
तेरी फिक्र जान जाने नहीं देती.
सब सो रहे होते है इस वक़त,
और हम लगाते है बेवजह गश्त


---



नींद
से ज़्यादा प्यारे थे
उनको हम कभी
आंख भी खुली हो अब,
तो बात नहीं होती


---


पलकों पे नींद को आ जाने दो,
सपनो को आँखों में सज जाने दो.
प्यार भरी गुज़रे आपकी ये रात,
ताकि कल हो सके फिर से आप से बात


---



आई होगी
किसी को हिज्र में मौत
मुझ को तो नींद भी नहीं आती


---



नींद यु ही नसीब नहीं होती

दिन भर काम करना पड़ता है

रातों को सोने के लिए


---


लगता है
मेरी नींद का किसी पराये के साथ
चक्कर चल रहा है
सारी सारी रात गायब रहती है


---


नींद से वास्ता टूट गया,
जब से तेरा रास्ता छूट गया .
सारी रात जागकर गुज़ारता हू,
और तेरा नाम पुकारता हू


---





---
ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए
उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में


---


बस एक बार सुला ले अपनी बाहों में

ये रोज़-रोज़ नींद का ना आनाहमसे सेहन नहीं होता


---



सोते वही लोग है,
जिनके पास किसी की याद नहीं होती


---


नींद आँखों में आने लगी है,
रात की घटा छाने लगी है.
हर तरफ बह रही हवा,
कोई प्यारा-सा गीत गाने लगी है


---


अब आओ मिल के सो रहें
तकरार हो चुकी
आँखों में नींद भी है बहुत रात कम भी है


---


कब तक कैद करके रखोगे

हमारी नींदों को

वो रिहा होने के लिए

तड़प रही है


---



यह प्यार का ही तो क़सूर है,
जो इन आँखो को नींद
नामंज़ूर है


---


जबसे तुमने इकरार किया,
अपनी बाहों का प्यार दिया.
नींद मेरी उड़ने लगी है,
मोहब्बत परवा चढ़ने लगी है


---



आज फिर
नींद को आँखों से बिछड़ते देखा
आज फिर याद कोई चोट पुरानी आई


---



मंज़ूर है तेरा फासला

पर नहीं मंज़ूर तेरी यादों का

मुझे रुलाना और मेरी नींदों को उडाना


---


यू खाली पलकें झुका देने से
नींद नहीं आती


---


रातों को नींद नहीं आती,
बस तेरी याद है सताती.
तू हर जगह महसूस होती है,
हर समां दिल के करीब होती है


---



मुद्दत से
ख़्वाब में भी नहीं नींद का ख्याल
हैरत में हूँ ये किस का मुझे इंतिज़ार है


---



जब नींद में इतने प्यारे लगते हो

तो सुबह तक तो हुस्न

तुम पर कहर ढाएगा


---



न करवटे थी न बेचैनियां थी,
क्या गजब की नींद थी
मोहब्बत से पहले


---


आँखों के सहारे तुम दिल में उतरने लगे,
दिन और रात मेरे प्यार से सवरने लगे.
ख्याल भी मीठे-से आने लगे है,
जो मेरी नींद को चुराने लगे है


---



भरी रहे अभी
आँखों में उस के नाम की नींद
वो ख़्वाब है तो यूँ ही देखने से गुज़रेगा


---



आँखें खोलू तो तेरी यादें

और सो जाऊ तो तेरे सपने


---



तुम्हारे
ख्वाबों को गिरवी रखके
तकिये से रोज़ रात थोड़ी
नींद उधार लेता हूँ


---



क्या दिन हुआ करते थे वो

जब हम चैन से सोते थे

अब चैन तो है मगर नींद नहीं


---



हमें भी नींद आ जाएगी हम भी सो ही जाएँगे
अभी कुछ बे-क़रारी है
सितारो तुम तो
सो जाओ


---


बस तेरी याद रात भर सताती है,
अब हमें नींद कहा आती है


---



तुम्हें नींद
नहीं आती तो कोई और वजह होगी
अब हर ऐब के लिए
कसूरवार इश्क़ तो नहीं


---



कभी-कभी सुबह जल्दी

उठने का ख्याल

रातों की नींद ले जाता है


---



मोहब्बत में रात को नींद नही आती …
तो क्या हुआ..
हम भी मोहब्बत के खिलाडी हैं..
दोपहर को सो जाते हैं


---


बिना सोये रात गुजारता हू,
बस तेरी तस्वीर निहारता हू.
तेरे प्यार को दिल में संवारता हू,
और तेरे हुसन की आरती उतारता हू


---



तू मेरे हिस्से की नींद हैं
जो मुझसे दूर बहुत दूर रहती हैं


---


हम उन से मोहब्बत करके
दिन रात सनम रोते है,
मेरी नींद
गयी मेरा चैन गया और
चैन से वो सोते है


---


No comments

Powered by Blogger.