बेटी की विदाई शायरी बहिन की विदाई शायरी | Beti ki vidai shayari bahan ki vidai

जीवन के भी बड़े अजीब दस्तूर होते हैं। एक बेटी को माँ-बाप बड़े लाड़ प्यार से पालते हैं और एक दिन उन्हीं हाथों से उसकी विदाई करनी होती है ये एक ऐसा पल होता है जब माँ-बाप और भाई की आँखों में खुशी भी होती है और आंसू भी होते हैं। ख़ुशी होती है क्यूंकि वह एक नई जिम्मेदारी के साथ खुद का एक नया घर बसाने जा रही होती है और आंसू तो उसके प्यार और बिछड़ने कारण निकल ही आते हैं। दोस्तों ये माहौल इतना भावुक होता है कि कई बार हमने दूल्हे और उसके पिता को भी रोते देखा है आखिर वो भी तो किसी लड़की के पिता और भाई हैं। आज इस आर्टिकल में हमने बेटी की विदाई शायरी और बहिन की विदाई शायरी को शामिल किया है आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। Beti vidai shayari photo
बेटी की विदाई शायरी बहिन की विदाई शायरी  | Beti ki vidai shayari bahan ki vidai

Beti ki vidai shayari | bahan ki vidai shayari



दुआएं बाबुल की सदा है साथ तेरे
दिल से कभी न भूल पाऊँगा मैं तुम्हें
मायका ना याद आए मेरी परी
ससुराल मे इतना प्यार तुझे मिले


---


होकर पराई कभी बेटी पराई नहीं होती
तभी तो माँ-बाबा से उसकी विदाई नहीं होती
कहने को तो करते हैं विदाई बेटी की
पर याद नहीं जाती दिल से कभी बेटी की


---


आँखों की कोरे गीली नहीं होने दूंगा
रह रह कर मन को समझाया था
मगर जब विदाई की बेला आई
तो खुद-ब-खुद आंसू छलक आये


---


थाम दामन सजन चल रही हूँ
झुमके कंगना पहन चल रही हूं
माँ ! थाम मुझको किधर जा रही हूँ
तू भी चल मैं जिधर जा रही हूँ


---


बेटी की विदाई पर, है कितना बेबस
बाबा,लाड़ली को नाज़ों से है पाला
नन्ही परी को आज कर दिया दान
रखना अब बाबा के दिल का तुम मान


Bahan vidai shayari in hindi



मिली-जुली खुशी-गम के भावनाओं के साथ
शुभकामना है आज विदाई के इस मौके में ये
कि हो तुम्हारे जीवन की शुभ शुरुआत


---


दस्तूर है जमाने का यह पुराना
लगा रहता है यहां आना और जाना
रहो जहां अपनी छाप ऐसे छोड़ जाना
हर कोई गुनगुनाता रहे आपका ही तराना


---


जीजा संग रहना खुशी खुशी
कभी भी ना उनका दिल दुखाना
हमसे भी ज्यादा तेरे हैं वो अपने
जीवन भर उनका साथ निभाना


---


बेटा अंश हैं तो बेटी वंश हैं,बेटा आन हैं
तो बेटी शान हैं लक्ष्मी का वरदान हैं बेटी
धरती पर भगवान हैं बेटी


---


आँख से दूर सही दिल से कहाँ जाएगा
जाने वाले तू हमें याद बहुत आएगा


Beti vidai shayari hindi



तुम सदा ऐसे ही मुस्कुराना
हमेशा अपनी खुशियां लूटना
बेटी हुई आज पराई लाड़ली मेरी
सदा खुशियों से भरे झोली तेरी


---


एक मीठी सी मुस्कान हैं बेटी
यह सच है कि मेहमान हैं बेटी
उस घर की पहचान बनने चली
जिस घर से अनजान हैं बेटी


---


चलो रे डोली उठाओ कहार
पीया मिलन की रुत आई
पी की नगरी ले जाओ कहार
पीया मिलन की रुत आई


---


बेटी हो या बहू अपनी मुस्कान से
घर में उजाला कर देती है,सारे
गमों को अपने दामन में समेट कर
खुशियों से वो आंगन भर देती है


---


विदाई का है दिन
माहौल है गमगिन
है ये आशा पूरी हो तुम्हारी
हरेक अभिलाषा


Beti ki vidai shayari in hindi



बेटी की शादी को देख एक बात याद
आती है साहब फूल कोई लगाता है
और महक किसी और का घर जाता है


---


बाबुल की दुआएँ लेती जा
जा तुझको सुखी संसार मिले
मैके की कभी न याद आए
ससुराल में इतना प्यार मिले


---


जा मेरी बहन तेरी दुनिया बसे
तेरे हमसफर का हमेशा साथ रहे
हम रोकर ही जी लेंगें यहाँ
इस घर में सदा तेरी याद रहे


---


जीवन के इस भाग दौड़ में
शायद ही नहीं मैं मिल पाऊंगा
पर करना इंतज़ार इस भाई का
राखी के दिन जरूर आऊंगा


---


तुम्हारी मंजिल तुम्हारा हौसला आजमाएगी
तुम्हारे सपनो को तुम्हारी आँखों से हटाएगी
कभी पीछे मुड़कर न देखना बेटी
रास्ते की ठोकर ही तुम्हे चलना सिखाएगी


Baap beti vidai shayari in hindi



पति के सुख में तेरा भी सुख होगा
उसके दुःख में भी तेरा दुख होगा
मिलेगा भरपूर प्यार तुमको
तो हमारा भी मन खुश होगा


---


बेटी अपने पति संग जाना
ससुराल ही तेरा सब कुछ होगा
आदर सत्कार करोगी सबका
तो पूरा परिवार ही खुश होगा


---


हर बेटी की यही कहानी है,शादी
के बाद कई नये रिश्तें निभानी है


---


बेटी होती दिल का टुकड़ा माँ-बाबा के
सुख-दुःख संग सहती माँ-बाबा के
जब होती विदा हो जाती सदा के लिए वो पराई
बाबा के घर आँगन में उसने तुलसी लगाई


---


ड़ोली चाहे अमीर के घर से उठे, चाहे गरीब
के, चौखट हर एक बाप की सूनी होती है


Beti vidai sad shayari



बहना ओ बहना तेरी डोली मे सजाऊंगा
तेरी जायेगी बारात होगी आँखों में बरसात
हंस हँसके मैं दुखड़ा बिदाई का छुपाऊंगा


---


कल जिससे मेरा घर, हरपल था महकता
आज मेरी उसी, लाडो की विदाई है
पलकें बाबा की हैं गम मे भीगी हुई
इसमे खुशी भी है और गम भी


---


यादों की झड़ी सी है आंखों में छाई
हो रही है आज आपकी विदाई
हम करते हैं ईश्वर से प्रार्थना
पूरी हो आपके जीवन की हर कामना


---


ऊपर वाले से एक ही दुआ हे
सदा मेरी बेटियां को रखना खुशहाल
माँ बाप की चौखट को सुनी करके
बेटियां चली ससुराल।


---


कौन कहता है केवल माँ का कलेजा दुनिया
में सबसे नरम है, मैंने बेटियों की विदाई में
अक्सर पिता को टूटते देखा है


Bhai bahan vidai shayari



जिस घर में जन्म लिया
उसी घर से हो रही है पराई
यह रीति बड़े कमाल की है
मां बाप कर रहे है बेटी की विदाई


---


प्यारी दीदी छोड़ मुझे तुम अपने ससुराल चली
अब तो हर पल याद तुम्हारी आएगी,किससे
करूंगी अपने मन की बात,कौन मुझे समझाएगी


---


अपने हाथों से पाला
अपनी गोद में खिलाया
हो रही है बेटी की विदाई
यह कैसा अवसर आया


---


बेटे भाग्य से होते हैं
पर बेटियाँ सौभाग्य से होती हैं


---


अब ना गुस्सा हो पाएगी तू हमसे
भैया को कैसे दिखायेगी अपनी खीझ
पहुंच रहे हैं तुम्हारे कदम
किसी और के घर की दहलीज


Beti ki vidai shayari in urdu



माँ-बाप के जीवन में ये दिन भी आता हैं
जिगर का टुकड़ा ही एक दिन दूर हो जाता हैं


---


तेरी एक हंसी से गूंज उठता था
घर का हर कोना
अब यहां सन्नाटे होंगे
तू कर रही है घर को सूना


---


क्या बताऊं खूबियां आपकी विदाई पर
महकता था दिन आपके मुस्कुराने पर
जहां भी रहो कामयाबी की मिशाल बनो
लेकिन अधूरा लगेगा हमें आपके जाने पर


---


आंसुओं से भीग रही आंखें
कैसी है यह जुदाई
बचपन से साथ है जो हमारे
अब हो रही है बेटी की विदाई


---


है विदाई की ये बेला,लगा है आँसुओं
का रेला,पर है खुशी साथ है आगे दुनिया
बड़ी जहाँ मिलेगी,तुम्हे जीवन की नई सौगात


Maa beti vidai shayari



नैनों से निकल रहे अश्रु
ना कर पा रहा हूं रोकने की सिलाई
कल तक तू थी हमारी
आज कैसे बन गई पराई


---


आज उस पिता की पलकें
ख़ुशी और गम में भीगी थीं
क्यूंकि आज उसकी बेटी की विदाई थी
जो घर को कल तक महकाती थी


---


नये परिवार का हिस्सा होगी
तू छोड़ कर जा रही है हमें
दुआ करता हूं भगवान से
तेरे कदम कभी ना थमें


---


पराया धन होकर भी कभी पराई नही होती
शायद इसीलिए किसी बाप से हंसकर बेटी
की,विदाई नही होती


---


प्यारी बिटिया अपने कदम रख रही है नए घर में
बड़ी अच्छी शुरुआत हो नए जीवन की खुशियों से सजी रहे पलकें नए सफर 
में


Behan ki vidai shayari 



कितना बेबस हैं पिता बेटी की विदाई पर
नाज़ों से पाली लाड़ली, रखा आँखों पर
मेरी नन्ही पारी तू याद बहुत आएगी
अपने माँ-बाबा से दूर तू चली जाएगी


---


नयनों से बह रहा नीर
ना हो पा रहा है नियंत्रित
चेहरे पर झूठी मुस्कान है
बेटी हो रही है हमसे विदित


---


ससुराल तुम्हारा होगा संसार
हर रिश्ते की मर्यादा तुम रखना
भेद भाव बिन रहना प्यारी,अपनी
जिम्मेदारियों पर खरी उतरना


---


बेटी की विदाई में स्वत: ही निकल आई
आंखों से अश्रु धारा
क्या बताएं किसी को
बाप बेटी का रिश्ता होता है बड़ा प्यारा


---


मेरी सबसे प्यारी बहना,खुशी
खुशी ससुराल को जाना,तेरे सुख
के लिये कुछ भी कर जाऊँगा
अपने भैया को भूल न जाना


---


नई जिम्मेदारियों से होगा सामना
सभी को लेकर चलना होगा साथ
इस विदाई के साथ तेरे जीवन की हो रही है एक नई शुरुआत


---


जब बेटी की विदाई का मुहूर्त आया
आँखों से अकस्मात आँसू छलक पड़े
वो शामिल हो गई ज़िंदगी की नई दौड़ में
पिता के कलेजे पर पत्थर बरस पड़े


---


भरपूर आनंद मिले तुम्हें
ससुराल में सदा रहो खुशी
दामाद जी के साथ बिताओ अपनी जिंदगी सुखी-सुखी


---


दिल में खुशी, मगर चेहरे पर
गम की परछाई होती है
कठोर दिल बाप भी रो देता है
जब बेटी की विदाई होती है


---


सदा खुशियों की फूलों से लहराती रहे तेरे ससुराल की सरजमीं
लोगों की नजरों में हुई पराई लेकिन परिवार की नजरों में सदा रहेगी अपनी

दोस्तों उम्मीद है आपको आज आर्टिकल बेटी की विदाई शायरी अच्छा लगा होगा आप सब अपना प्यार और आशीर्वाद ऐसे ही बनाये रखें इससे हमे आपके लिए रोज नये-नये लेख लिखने की प्रेरणा मिलती रहती है। 
Susheel Tiwari

I am a hindi content writer and i am writing for many hindi blogs and i love to help people in hindi . यदि आप अपने ब्लॉग के लिए आर्टिकल लिखवाना चाहते हैं, तो इस वेबसाइट के नीचे दिए गए Contact Us के माध्यम से मुझसे संपर्क कर सकते हैं। धन्यवाद !

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post