2 line bewafa shayari in hindi and urdu | 2 लाइन बेवफा शायरी इन हिंदी और उर्दू में पढ़ें

प्यार की राह इतनी आसान नहीं हैं यदि किसी के साथ प्यार भरी ज़िंदगी जीना है तो एक-दूसरे पर विश्वास और निष्ठा बहुत जरुरी है और यदि प्यार है तो समर्पण के साथ होना चाहिए जैसा राधा-कृष्णा का प्रेम। ऐसा नहीं है कि लोग ये बात नहीं समझते है लेकिन सब लोग नहीं समझते हैं। दो लोग में से एक व्यक्ति समपर्ण के साथ प्यार करता है तो एक बेवफाई कर जाता है, उसे रास्ते में चलते-चलते कोई और पसंद आ जाता है या कभी-कभी मजबूरी के कारण भी सामने वाला बेवफा बन जाता है। लेकिन ऐसा कम होता कई बार सामने वाला आपके पास धन दौलत के कारण आता है और प्यार करता है जब उसे पता चलता है आप गरीब हो या आप से भी ज्यादा पैसे वाला उसे मिल जाता है तो आपको छोड़ देता है। आज इस आर्टिकल में ऐसे ही परेशान लोगों द्वारा लिखी गई बेवफा शायरी संकलन किया है ये सभी शायर गुमनाम है लेकिन आप इनकी 2 लाइन बेवफा शायरी इन हिंदी और उर्दू में पढ़ेंगे तो आपको एक अलग ही आनंद आने वाला है कि आप अकेले नहीं। दोस्तों ये जीवन हमारा नहीं है हमारे माता-पिता का इसीलिए इसे व्यर्थ न गवाए यदि कोई बेवफा मिल ही गया है तो उसे छोड़ अपने माँ-बाप के लिए मेहनत करते जाएँ। 
2 line bewafa shayari in hindi and urdu | 2 लाइन बेवफा शायरी इन हिंदी और उर्दू में पढ़ें


2 line bewafa shayari


तुम समझ लेना बेवफा मुझको, मै तुम्हे मगरूर मान लूँगा
ये वजह अच्छी होगी , एक दूसरे को भूल जाने के लिये
Tum samajh lena bewafa mujhko,main tumhe magroor maan lunga
ye vajah achchi hogi ek doosre ko bhool jaane ke liye


---


कोई नहीं याद रखता वफ़ा करने वालों को
मेरी मनो बेवफा हो जाओ ज़माना याद रखेगा


---


चाहते हैं वो हर रोज़ नया चाहने वाला
ऐ खुदा मुझे रोज़ इक नई सूरत दे दे
Chahte hai wo har roj naya chahne wala
A khuda mujhe roj ek


---


मोहब्बतें पनाह मांगती हैं
लोग इस क़दर बेवफा हैं आजकल


---



मुझे इश्क है बस तुमसे नाम बेवफा मत देना
गैर जान कर मुझे इल्जाम बेवजह मत देना
जो दिया है तुमने वो दर्द हम सह लेंगे मगर
किसी और को अपने प्यार की सजा मत देना
Mujhe ishq hai bas tumse naam bewafa mat dena
gair jankar mujhe ilzam bevajah mat dena
jo diya hai tumne wo dard seh lenge magar
kisi aur ko apne pya ki saja mat dena



Bewafa shayari 2 line



पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफाई
बड़ी तरतीब से एक शख्स ने तबाही मचाई


---


मुझसे मेरी वफ़ा का सबूत मांग रहा है
खुद बेवफ़ा हो के मुझसे वफ़ा मांग रहा है
Mujhse meri wafa ka saboot maang raha hai
khud beafa ho ke mujhse wafa maang raha hai


---


हमारी तबियत भी न जान सके हमे बेहाल देखकर
और हम कुछ न बता सके उन्हें खुशहाल देखकर


---


दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया
खाली ही सही हाथों में जाम तो आया
Dard hi sahi mere ishq ka inaam to aaya
khali hi sahi haathon me jaam to aaya


---


क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों
वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए


Bewafa poetry in urdu 2 lines



हम सिमटते गए उनमें और वो हमें भुलाते गए
हम मरते गए उनकी बेरुखी से, और वो हमें आजमाते गए

Hum simtate gaye unme aur wo hume bhulate gaye
hum marte gaye unki berukhi se aur wo hume aajmate gaye


---


रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गनाह


---


वो सुना रहे थे अपनी वफाओ के किस्से
हम पर नज़र पड़ी तो खामोश हो गए
Wo suna rahe the apni wafaon ke kisse
hum par najar padi to khamosh ho gaye


---


हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते


---


वो कहता है कि मजबूरियां हैं बहुत
साफ लफ़्ज़ों में खुद को बेवफा नहीं कहता
Wo kehta hai ki majburiya hai bahut
saaf lafzon me khud ko bewafa nahi kehta


Urdu shayari bewafa pyar 2 lines



उसकी टीस नहीं जाती है सारी उम्र
पहला धोखा पहला धोखा होता है


---


वो बेवफा हर बात पे देता है परिंदों की मिसाल
साफ साफ नहीं कहता मेरा शहर छोड़ दो
Wo bewafa har baat pe deta hai parindon ki misal
saaf saaf nahi kehta mera shehar chodh do


---


हम जैसे बर्बाद दिलो का
जीना क्या और मरना क्या
आज तेरी महफ़िल से उठे हैं
कल दुनिया से उठ जाएंगे


---



बेवफाई उसकी दिल से मिटा के आया हूँ
ख़त भी उसके पानी में बहा के आया हूँ
कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को
इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ
Bewafai uske dil se mita ke aya hoon
khat bhi uske paani me baha ke ayya hoon
koi padh na le us beafa ki yaadon ko
isiliye paani me bhi aag laga kar aaya hoon


---


कदर कर लो उनकी जो
तुमसे बिना मतलब की चाहत करते हैं
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम
और तकलीफ देने वाले ज्यादा होते हैं


Bewafa status in hindi 2 line



वो जमाने में यूँ ही बेवफ़ा मशहूर हो गये दोस्त
हजारों चाहने वाले थे किस-किस से वफ़ा करते
WO jamane me yun hi bewafa mashoor ho gaye dost
hajaron chahne wale the kis-kis se wafa karte


---


अनजाने में दिल गवा बैठे
इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे
उनसे क्या गिला करे
भूल तो हमारी थी
जो बिना दिल वाली से दिल लगा बैठे


---


हमने चाहा था जिसे उसे दिल से भुलाया न गया
जख्म अपने दिल का लोगों से छुपाया न गया
Humne chaha tha jise use dil se bhulaya na gaya
Zakhm apne dil ka logo se chupaya na gaya


---


बहुत लोग हैं उसे खुश रखने के लिए
एक हम है जो उसकी यादों में खुश रहते हैं


---



माना कि मोहब्बत की ये भी एक हकीकत है फिर भी
जितना तुम बदले हो उतना भी नहीं बदला जाता
Mana ki mohabbat ki ye bhi ek hakikat hai fir bhi
jitna tum bade ho utna bhi nahi badla jata


Bewafa two line shayari



मेरी उदासी तुम्हे
कहा नजर आएगी
तुम्हे देखकर तो
हम मुस्कुराने लगते हैं


---


शिकायत उस से नहीं अपने-आप से है मुझे
वो बेवफ़ा था तो मैं आस क्यूँ लगा बैठा
Shikayat us se nahi apne-aap se hai mujhe
wo bewafa tha to main aas kyun laga baitha


Read More Shayari -

Also read Bekarari shayari in hindi-


Also read Breakup shayari-


मुझे बहुत कम समय में बहुत प्यार
हुआ इसलिए शायद मुझे बहुत कम समय में बहुत रोना पड़े


---


इन्तहा हो गयी इंतज़ार की
आयी ना कुछ खबर मेरे यार की
ये हमें है यकीन बेवफा वो नहीं
फिर वजह क्या हुई इंतज़ार की


Wafa shayari urdu 2 line



दिल पर हरगिज़ ना लीजिये
अगर कोई आपको चोट पहुँचाये
दुनिया में ऐसा कोई है ही नहीं
जो आपको बस फूलों पे चलाये


---


तेरी बेवफाई से टूट गए थे हम
जिंदगी से रूठ गए थे हम
जीने की कोई वजह बची नहीं अब
बस तेरी यादों के सहारे जी रहे है हम


---


अचानक से क्यों चोट-ए-बेवफ़ाई दे दी पगली
दिल तो पहले से ही झूठे वादों से काफ़ी ख़ुश था


---


रो पड़ा है आसमा भी मेरी वफ़ा को देख कर 
देख तेरी बेवफाई की बात बादलों तक जा पहुंची


---


डर लगता है अब प्यार करने से
लोग थोड़ा देकर सब ले जाते है


Best bewafa shayari in hindi urdu



चलो छोड़ो ये बहस कि वफ़ा किसने की
और बेवफा कौन है
तुम तो ये बताओ कि आज ‘तन्हा’ कौन है


---


जब भी किसी से बेवफ़ाई के किस्से सुनता हूँ
पता नहीं क्यों मेरा ध्यान तुम्हारी तरफ ही जाता है


---


जिंदगी में सिर्फ दर्द ही देखा है
मोहब्बत में खुद से ज्यादा जिनपे किया था भरोसा 
उन्हें भी बेवफा बनते देखा है


---


आसमां में उड़ रहा था प्यार
बेवफाई के मांजे से कटना ही था


Two line bewafa shayari



भूल जाऊंगा तुम्हें थोड़ा सबर रखना
तुम्हारी तरह हमें भी बेवफा बनने में 
वक्त लगेगा थोड़ा सबर रखना


---


अब शायद किसी और के लिए ही सही
लेकिन तेरे मुस्कुराने का अंदाज़ आज भी वैसा ही है


---


उसने दोस्ती का ऐसा सिला दिया
अपने मतलब के लिए उसने
मेरी दोस्ती को भुला दिया


---


कि उनका दिल पत्थर
और मोम-सा था चेहरा
isme kya kasoor mera


---


हम से कहते थे की तुम बेवफा हो
मगर हम जानते थे हम पर बेवफाई का इलज़ाम लगा के 
अपनी बेवफाई को छुपा रहे हैं


2 line shayari bewafa



अक्सर लोग वफ़ा तब तक करते हैं
जब तक उनका मक़सद पूरा नहीं होता


---


उसको बेवफा कैसे कह दूँ
जिसको चुना था हमने
दिल उदास हो जाता है 
उसकी बेवफाई पे जो प्यार था 
अपना और पसंद थी अपनी


---


एक जाला बना लेते थे
वो मीठी बातों का 
बस कुछ ऐसे ही मैं उलझ जाता था


---


मेरी आँखों से बहने वाले न थमने वाले ये आँसूं 
बार बार तुमसे तुम्हारी बेवफाई का कारण पूछ रहे हैं


---


जो हर किसी के दिल में बसते हैं
वो लोग कितने सस्ते हैं


Bewafa sms 2 line | Bewafa shayari 2 line



टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता 
इश्क में मरीज को आराम नहीं आता 
ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता 
के टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता


---


मोहब्बत ऐसी है कि
बेवफा से भी हो जाती है 
मगर बेवफाई को अपनी अकड़ में
मोहब्बत ना दिख पाती है


---


दिल भर ही गया है तो मना करने में डर कैसा
मोहब्बत में बेवफाओ पर कोई मुकदमा थोड़े होता है


---


अब ये हालात हो गए हैं मेरी ज़िन्दगी में
कि तेरा नाम आता है तो मेरे चेहरे की मुस्कुराहट चली जाती है


---


उसने Bewafai में सभी हदें पार कर दी
मोहब्बत का नाटक हमारे साथ और वफ़ा किसी गैर के साथ


Bewafa dost poetry in hindi urdu 2 lines



दिल का मकान तभी टिक पाता है
जिससे प्यार किया जाए
जब वो उसमे घर बसाता है


---


हम गम, तन्हाई और जुदाई से मरते रहे
और वो बेवफा बनके चुप बैठे रहे


---


उन्हें तो मोहब्बत हुई थी हमसे
लेकिन हमें तो आज भी है


---


ये मैं अक्सर सोचता हूँ की वो हमें कैसे भूल गए होंगे
शायद हमें बेवफा मान कर, भूलने कीवजह मिल गयी होगी


---


सीने पर जो ज़ख्म है
सब फूलों के गुच्छे है
हमें पागल ही रहने दो
हम पागल ही अच्छे है


Bewafa poetry in urdu hindi 2 lines sms



कोमल, दयालु लगते थे जो हसीन लोग
वास्ता पड़ा तो कठोर और पत्थर के निकले


---


याद तो ज़रूर उनको हम आते होंगे
ज़िक्र वफ़ाओ का कहीं जब आता होगा


---


जब कोई हद से ज़्यादा सहता है
तो उसे हर कोई दर्द बेहद ही देता है


---


अंदरूनी दर्द है साहब दिल टूटने का
दिखाई नहीं देगा


---


पर्दा झूठ का काश पहले ही उठ जाता
मैं तुम पे दिन-पे-दिन मरता तो ना जाता


Bewafa status | Bewafa shayari



मुझे कोई ग़म नहीं तेरी बेवफ़ाई का
मैं बस थोड़ा सा मायूस अपनी वफ़ा से हूँ


---


रात आई पर नींद ना आई
नींद आई तो तेरी याद आयी
याद आई तो अश्क़ आये
अश्क़ आये जो तुझे बेवफा ठहराए


---


डर लगता है उन लोगों से
जिनके दिल में भी दिमाग होता है


---


वो हुक्म करते थे
हम हाज़िर हो जाते थे
हम प्यार करते थे
वो गुलाम समझते थे


Bewafa poetry 2 lines



ये सच है कि वफ़ा करने वालों को कोई याद नहीं करता
थोड़े बेवफ़ा होकर तो देखो दुनियां याद करेगी


---


वो कहते थे कि
दिक्कते है मिलन में
अब मालूम हुआ कि
कोई और है जीवन में


---


पहले उनके होने से
ज़ख्म हवा हो जाते थे
अब वो हवा है
मगर ज़ख्म यही है


---


फ़िज़ूल ही अपना दिल उन्हें दे डाला 
जिन्होंने इसे कभी ठीक से नहीं संभाला

आज का आपको टू लाइन बेवफा शायरी का ये लेख कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताएं और यदि आपके पास भी बेवफा शायरी हैं तो हमारे साथ कमेंट के माध्यम से शेयर जरूर करें जिससे हमारे और भी पाठक गण पढ़ सकें।
Susheel Tiwari

I am a hindi content writer and i am writing for many hindi blogs and i love to help people in hindi . यदि आप अपने ब्लॉग के लिए आर्टिकल लिखवाना चाहते हैं, तो इस वेबसाइट के नीचे दिए गए Contact Us के माध्यम से मुझसे संपर्क कर सकते हैं। धन्यवाद !

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post